...

Kislay

This book contains my poem titled “Meri Maa (मेरी माँ)”

An excerpt from my poem(मेरी कविता की चंद पंक्तियाँ):

बचपन में जो मेरे संवर्धन का सहारा थी
आज सहारे की आस में जाने कब से खड़ी है
मुझे युवा बनाने में जिसने अपना यौवन गवां दिया
आज न जाने कितनी बीमारियों से जूझ रही है

Get your copy here: Buy

× Live Chat
Seraphinite AcceleratorOptimized by Seraphinite Accelerator
Turns on site high speed to be attractive for people and search engines.